मूली(Radish) को ना समझे मामूली

14 Surprising Benefits Of Radish

मूली(Radish) को ना समझे मामूली

भारत के अनेक राज्यों के साथ-साथ पश्चिमी राजस्थान में मूली को बड़े शौक से अधिक मात्रा में  खाया जाता है इसका उपयोग सलाद में सब्जियों में और दवाइयों में अधिक मात्रा में किया जाता है सर्दियों की शुरुवात के साथ मूली बाजार में आने लगती है |मूली का उपयोग सर्दियों में अधिक मात्रा में किया जाता है|मूली भले ही दिखने में आपको मामूली लगे  लेकिन इसके फायदे आपको हैरान कर देंगे | एक अध्ययन से पता चला है मूली हमारे शरीर के 80 %रोगों को दूर करती है और बड़ी से बड़ी बीमारियों जैसे  कैंसर ,डायबिटीज ,पीलिया ,पथरी ,बवासीर ,ब्लड प्रेशर लेवल को कंट्रोल करके दूर करती है |मूली खाने में मीठी और थोड़ी तीखी भी होती है |मूली खाने वाले भी इसके फायदे से अब तक अंजान है | मूली में प्रचुर मात्रा में कैल्सियम ,प्रोटीन आयरन और ,आयोडीन अधिक मात्रा  में पाया जाता है मूली का वैज्ञानिक नाम रफानस सेटाईवस है |मूली हमारे शरीर में वात,पित ,और कफ को सही संतुलन से बनाये रखती है और बहुत सी बीमारियों को दूर करती है |मूली पतली और कच्ची खाए, मोटी और पकी मूली नुकसान देती है मूली को सुबह के समय सेवन करने से ये आपके शरीर में दुगुने  तरीके  से फायदा देती है |

मूली के हैरान करने वाले फायदे –

  • पीलिया -पीलिया के रोगी सुबह खाली पेट मूली का सेवन करे कुछ ही दिनों में पीलिया रोग दूर होगा |मूली के ताजे पतों को पीसकर उसका रस निकाले  50 -60 मिलीलीटर रस की मात्रा में 10 -15 ग्राम की मात्रा में शक्कर (चीनी ) मिलाकर पीने  से कुछ ही दिनों में पीलिया रोग दूर होगा |
  • पथरी रोग – मूली के बीजो को  ताजे पानी में उबालकर अच्छे से पकाऐ इस पानी को छानकर पीने से आपकी पथरी दूर होगी |ये हमारे शरीर से विषैले तत्वों को बाहर निकालकर ब्लड को शुद्ध करती है |
  • मूली के ताजा पतों का पीसकर  रस निकाले सुबह खाली पेट पीने से आपके मूत्र की रूकावट दूर होगी और मूत्र मार्ग से आपकी पथरी बाहर निकल आती है |कच्ची मूली का रस निकालकर  40 -50 ग्राम की मात्रा  दिन में तीन से चार बार सेवन  करने से आपकी पथरी  घलकर बाहर आती है
  • इसके बेहतर उपयोग के लिए मूली ,गाजर और शलजम 10 -10ग्राम की मात्रा में लेकर एक गिलास पानी डालकर काढ़ा बनाए और इस काढे का सुबह शाम सेवन करे आपकी पथरी दूर होगी |
  • सफ़ेद दाग -मूली का सेवन करने से सफ़ेद दाग दूर होंगे |मूली के बीजो को  सुखाकर  अच्छे से पीसकर पाउडर बानाए  इस पाउडर में   थोडा सा अदरक का रस या गोमूत्र मिलाकर पेस्ट बनाए इस पेस्ट को प्रभावित स्थान या दाग पर लगाए कुछ ही दिनों में दाग दूर होंगे |
  • बवासीर रोग -बवासीर के रोगी सुबह खाली पेट कच्ची मूली का सेवन करे या उसके जूस को निकालकर पीने से बवासीर रोग दूर होता है ये बवासीर के कारण आने वाले ब्लड को आने से रोकती है इसके साथ आप मूली के पतों की सब्जी या रस निकालकर सेवन करने से ये रोग  अति शीघ्र दूर होता है |
  • मूली को अच्छे से  छीलकर उसे चार हिस्सों में काटकर उस पर थोडा सा सेंधा नमक मिलाकर रात भर रखे सुबह खाली पेट इसके सेवन से बवासीर रोग दूर होगा|बवासीर के रोगी मूली को काटकर उस पर हल्दी पाउडर डालकर खाने से बवासीर रोग दूर होता   है |
  • शुगर रोग-इस रोग के रोगी अपने खाने में मूली का सेवन करे और इसके रस का सेवन सुबह खाली पेट करने से कुछ ही दिनों मे आपके शुगर की बीमारी दूर होगी |
  • दमा -दमा के रोगी सूखी मुली को पीसकर उसका पाउडर बनाए इसमें थोडा सा जीरा और थोडा सा नमक मिलाकर इसका काढ़ा बनाऐ इस काढ़े के सेवन से खांसी और दमा का रोग कुछ ही दिनों में दूर होगा |
  • कैंसर -मूली कैंसर को बढने से रोकती है मूली का सेवन नियमित करने से कैंसर जैसी बीमारियों को दूर किया जा सकता है |मूली में       प्रचुर मात्रा में फ़ॉलिक एसिड और विटामिन c होने के कारण ये हमारे शरीर से  मुँह ,आंत ,और किडनी के कैंसर को दूर करती है |
  • दाँतो के रोग -मूली दाँतो के पीले पन को दूर करती है |मूली के टुकड़े पर थोडा सा नीबू का रस मिलाकर अपने दाँतो को अच्छे से साफ     करे पीलापन दूर होगा मूली के रस में थोडा सा नमक मिलाकर कुल्ला करने से पायरिया रोग दूर होता है और इसके कारण जो दर्द   हुआ है वो दूर होगा |
  •  दाद -मूली के थोड़े से बीजो को लेकर नीबू के रस में पीसकर हल्का गर्म करके दाद पर लगाने से  थोडा सी जलन होगी और हल्का दर्द होगा  दो से तीन दिन तक दाद वाले स्थान पर लगाने से दाद दूर होगा और जलन भी कम होगी |
  • गले के घाव (छाले)-किसी कारण से आपके गले में घाव अथवा छाले हो जाये तो मुली के रस में  थोडा सा नमक और थोडा सा पानी        मिलाकर गरारे करने से आपके गले के घाव( छाले) ठीक होंगे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *