जाने एनीमिया(रक्ताल्पता ) रोग केअंदर खून की कमी क्यों आती है |

home-remedies-for-anemia

एनीमिया(रक्ताल्पता ) क्या है ?– ब्लड में लाल रक्त कोशिकाओ(हिमोग्लोबिन ) की कमी से होने वाले रोग को एनीमिया रोग कहते है|शरीर में आयरन की कमी के कारण ब्लड में हिमोग्लोबिन के बनने की गति धीमी हो जाती है|हिमोग्लोबिन का कार्य फेफड़ो से ऑक्सीजन लेकर ब्लड तक ऑक्सीजन को पहुचाना है हिमोग्लोबिन की कमी होने से शरीर में ऑक्सीजन की कमी होने लगती जिसके कारण शरीर में  कम उर्जा बनने लगती है इससे कमजोरी महसुस  होती है साथ ही थकान और चक्कर जैसी समस्या भी दिखाई देने लगती है |हमारे शरीर में आयरन की मात्रा शरीर के वजन के हिसाब से 3 -5 ग्राम होती है |एनीमिया तीन प्रकार का होता है |1 खून की कमी से होने वाला एनीमिया2 हेमोलाईसिस एनीमिया 3लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में कमी के कारण उत्पन एनीमिया | स्वस्थ मनुष्य के शरीर में हिमोग्लोबिन की मात्रा पुरुषों में 12 -16मिली ग्राम प्रति डेसी लिटर महिलाओं में 11-14 मिली ग्राम प्रति डेसी लिटर तक हिमोग्लोबिन होनी चाहिए इससे कम होने पर शरीर में एनीमिया रोग होता है|एनीमिया की समस्या पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में अधिक दिखाई देती है |

एनीमिया(रक्ताल्पता ) रोग का कारण –

शरीर में आयरन ,फोलिक एसिड ,विटामिन बी 12 की कमी के कारण |

प्रसव काल अथवा मासिक धर्म में ब्लड का अधिक बहना |

किसी भी प्रकार की दुर्घटना और चोट में ब्लड का अधिक बहना |

मलेरिया के बाद शरीर में लाल रक्त कोशिका की कमी होना |

शौच ,उल्टी ,खांसी के साथ ब्लड का आना |

पेट के अल्सर में खून जाना |

नशीले प्रदार्थों  का अधिक उपयोग करने से  |

अधिक मात्रा में अम्लीय अथवा क्षारीय पदार्थ का सेवन करना |

एनीमिया (रक्ताल्पता )रोग के लक्षण –

सिने में दर्द महसुस होना |

त्वचा अथवा नाख़ून का सफ़ेद  दिखाई देना  |

तलवो अथवा हथेलियों का ठंडा होना |

जीभ नाख़ून पलकों के अंदर सफेदी आना |

कमजोरी और थकान का महसुस  होना |

चेहरें और पैरो पर सुजन का दिखाई देना |

लेटकर और बैठकर उठते समय चक्कर आना |

आँखों के सामने अँधेरा छा जाना अथवा ह्रदय की गति  का बढ़ना |

एनीमिया (रक्ताल्पता )रोग का आयुर्वेदिक अथवा घरेलू  उपचार –

 100 ग्राम चित्रक के जड़ -की छाल को छाया में सुखाकर अच्छे से पीसकर चूर्ण बनाऐ इस चूर्ण में 200 ग्राम की मात्रा में आवंले का रस अच्छे से मिक्स करे इस चूर्ण के शुष्क होने पर 200  ग्राम आवंले का रस ओर  मिलाकर किसी बोतल में डालकर रखे इस चूर्ण को नित्य पानी के साथ 3 -5 ग्राम सेवन करने से एनीमिया की समस्या कुछ ही दिनों में दूर होगी |

टमाटर -नित्य 200 ग्राम टमाटर को काटकर उसमे स्वाद अनुसार सेंधा नमक और काली मिर्च का चूर्ण डालकर सेवन करने से कुछ ही दिनों में एनीमिया की समस्या दूर होती हैऔर पेट में पैदा होने वाले कीड़े भी मलद्वार के माध्यम से बाहर निकलते है |

टमाटर,पालक,गाजर का रस  नित्य आधा गिलास की मात्रा में 20 दिनों तक सेवन करने से एनीमिया के कारण शरीर में आई खून की कमी दूर होगी |

पुनर्नवा की जड़ -का चूर्ण 100 ग्राम ,मुनक्का100 ग्राम ,हल्दी पाउडर 100 ग्राम की इन तीनों को अच्छे  से पीसकर किसी बोतल में डालकर रखे नित्य एक कप दूध के साथ एक चम्मच की मात्रा में सेवन करने एनीमिया रोग दूर होता है |

चुकंदर -एनीमिया रोग में चुकंदर रामबाण औषधि की तरह कार्य करता है |चुकंदर में प्रचुर मात्रा में आयरन (लौह तत्व पाये जाते )जो हमारे ब्लड सेल्स को एक्टिव करके नये ब्लड का निर्माण करते है |नित्य सुबह खाली पेट एक गिलास अनार और चुकंदर का जूस मिक्स करके पीने से एनीमिया रोग दूर होता है ब्लड में हिमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ती है |आप चुकंदर का उपयोग सलाद के रूप में भी कर सकते है |

गुडहल का चूर्ण -नित्य आधा गिलास दूध में एक चम्मच गुडहल के सूखे फूलों का चूर्ण डालकर सुबह -शाम 7 दिनों तक सेवन करने से एनीमिया की समस्या दूर होगी और शरीर में एनीमिया के कारण आई कमजोरी भी दूर होती है |

सेब का रस -एक गिलास ,चुकंदर का  रस  एक गिलास स्वाद अनुसार शहद  मिलाकर नित्य सेवन करने से एनीमिया की समस्या दूर होती है |सेब अथवा चुकंदर के रस में प्रचुर मात्रा में आयरन होता है जो शरीर में ब्लड की कमी को दूर करके हिमोग्लोबिन को बढ़ाते  है |

हरे धनिये का उपयोग -हरे धनिये में प्रचुर मात्रा में आयरन पाया जाता है जो एनीमिया की समस्या को दूर करता है |नित्य अपने खाने में हरे धनिये की चटनी का उपयोग करे अथवा एक कप धनिये का रस निकालकर नित्य खाली पेट सेवन करने से शरीर में खून की कमी दूर होती है |

लहसुन का उपयोग -नित्य अपने खाने में लहसुन की चटनी का उपयोग करे लहसुन हमारे ब्लड  में हिमोग्लोबिन की मात्रा को तेजी से बढ़ाता है नित्य सुबह शाम लहसुन की चटनी का सेवन मात्र 7 दिनों तक करने से एनीमिया की समस्या में राहत मिलती है |

खजूर का उपयोग –रात को सोते समय एक गिलास गाय के दूध में 2 खजूर को डालकर सेवन करने से शरीर में ब्लड की कमी दूर होती है इस  का उपयोग सर्दियों में अवश्य करे |एनीमिया के रोगी नित्य गुड और मुंगफली का सेवन करने से शरीर में आयरन की कमी दूर होती है |

आवले का रस –आधा गिलास ,आधा गिलास जामुन का रस मिलाकर नित्य सेवन करने से शरीर में हिमोग्लोबिन की कमी दूर होती है इस रस के सेवन से शरीर में हिमोग्लोबिन का स्तर बढ़ता है |

गिलोय का उपयोग – एक चौथाई ग्राम की मात्रा में गिलोय (गुर्च )एक चम्मच शहद और गुड मिलाकर सुबह शाम सेवन करने से शरीर में खून की कमी दूर होती है|नित्य गिलोय के रस का सेवन करने से  शरीर में खून और हिमोग्लोबिन की कमी दूर होती है |

आम का उपयोग –एक गिलास मीठे दूध में पके आम का गुदा निकालकर नित्य सेवन करने से हिमोग्लोबिन बढ़ता है |नित्य योग करने से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है इसमें सूर्य नमस्कार ,शव आसन ,सर्वगाआसन ,आदि योगा करने से एनीमिया की समस्या दूर होती है |

तिल का उपयोग –रात को सोते समय दो चम्मच तिल को पानी में भिगोकर रखे सुबह पानी निकालकर सिलवटे पर पीसकर पेस्ट बनाए इस पेस्ट में एक चम्मच शहद मिलाकर सुबह -शाम सेवन करने से हिमोग्लोबिन की कमी दूर होती है |इस  मिश्रण का उपयोग मात्र 7 दिन तक करने से एनीमिया की समस्या को मात्र सात दिन में दूर कर सकते है |कच्चे सिंघोड़े का सेवन करने से खून की कमी दूर होती है और शरीर को ताकत मिलती है |

बबूल के फुल -को छाया में सुखाकर खरल में घोटकर चूर्ण बनाए इस 3 ग्राम चूर्ण में 3 ग्राम मिश्री मिलाकर जल के साथ इस चूर्ण का नित्य सेवन करने से एनीमिया की समस्या दूर होती है |

सब्जियों का उपयोग –नित्य अपने खाने में पालक ,गाजर ,बैगन ,मेथी ,ब्रोकली चुकंदर, दाल ,बादाम ,साबुत अनाज ,खीरा ,ककड़ी ,मुली ,प्याज ,टमाटर ,हरा धनिया ,लोकी ,पता गोबी ,इन सभी सब्जियों मे प्रचुर मात्रा में आयरन ,केल्शियम ,और विटामिन है जो एनीमिया की समस्या को दूर करके शरीर में हिमोग्लोबिन को बढ़ाते है |

Check Also

जाने क्यों नहीं होती खाना खाने की इच्छा ?

अरुचि(Anorexia) –आज की व्यस्त जीवन शैली में बहुत से स्त्री और पुरुष समय पर भोजन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *